/* */


शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

"नव वर्ष का जन्म दिन"

नव वर्ष मंगल मय हो, नव वर्ष की हार्दिक बधाईयां,
एक "जन्म दिन" ऐसा भी इस बार "नव वर्ष" का कुछ नए तरीके से आगमन करते है . . .

तुम तो आ ही गए, तुम्हें तो आना ही था "नव वर्ष"
नव वर्ष मानो कोई बच्चे ने जन्म लिया हो, उसे सहलाते रहे खिलखिलाते रहे
कभी बारिश की बूँद बनकर अपने रोने का एहसास दिलाता है,
तपती धुप से तेजस्वी होने का, तो कभी पतझड़ में भूख लगने का एहसास दिलाता है,
ठण्ड में तो मानो जैसे सारे दुःख दर्द समेटे हुए हो, कोहरा तो ऐसे जैसे जख्मो पे पट्टी बधी हो,
हर बदलते मौसम में अपने नए नए अंदाज दिखलाता है,
धरती माँ की बाहों में खेलता कूदता, पितृ समान आसमान की चादर ओढ़े, बादलों की छावं में रहता है,
ऋतुओ के संग, होली के रंग, दीपावली में दीपो संग, ईद के चाँद से, चांदनी रात से अन्य सभी त्योहारों से मन बहलाता रहता है,
प्रक्रति से तो ऐसे खेल खेलने लगा है मानो जैसे अपने क्रोध का एहसास दिला रहा हो,
हर पल, आठों पहर, और पुरे १२ महीने, जिंदगी के हर पहलु को भरपूर जीकर पुनर्जन्म लेता है,
प्रत्येक "नव वर्ष" के आगमन पर हम प्रफुल्लित हो जाते है हर्षोउल्लास से भर जातें है प्रत्येक दैनिक दिनचर्या के कारण तुम्ही हो,
तुम आ गए हो, तुम तो आ ही गए, तुम्हें तो आना ही था "नव वर्ष"

तभी तो हम हर बच्चे को ईश्वर का रूप मानते है, जो की स्वयँ सृष्टि के रचयिता है.
तो इस नव वर्ष हम भी खेलेंगे घुलेंगे मिलेंगे आपस में हम भी इसी प्रकार अपनी अभिलाषाओं को पूरा करेंगे.

मेरे समस्त मित्रवरो को "नव वर्ष" के "जन्म दिन" की हार्दिक बधाईयां नव वर्ष के आगमन की हार्दिक बधाईयां.

नव वर्ष मंगल मय हो . . .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिखिए अपनी भाषा में